Pages

"हे पवनपुत्र हनुमान तुम्हारा नाम बड़ा बजरंगबली..."

अलीगंज हनुमान मंदिर में सजी लोक चौपाल 

लखनऊ। भक्तिभाव का आधार श्रद्धा प्रेम और समर्पण हैं। सच्ची भक्ति से भगवान वश में हो जाते हैं। भगवान राम ने शबरी के जूठे किए बेर भी प्रेम और भक्तिभाव के कारण खाए थे। मन में भक्ति भाव के उठने के बाद भक्त में नकारात्मक गुण दूर हो जाते हैं और भक्त अहंकार से मुक्त होकर अपनी अंतस चेतना में ईश्वर की अनुभूति करने लगता है। ये बातें लोक संस्कृति शोध संस्थान द्वारा आयोजित लोक चौपाल में वक्ताओं ने कहीं। गुरुवार को अलीगंज के पुराना हनुमान मन्दिर स्थित श्रीराम दरबार में भक्त और भगवान विषय पर केन्द्रित आयोजन की अध्यक्षता संगीत विदुषी प्रो. कमला श्रीवास्तव ने की। उनके निर्देशन में गायक गायिकायों ने राम से बड़ा राम का नाम विषयक मनोहारी प्रस्तुति दी।
कार्यक्रम का शुभारम्भ गणेश सुमिरन व सरस्वती वन्दना से हुई। समवेत स्वर में दर्जनों प्रतिभागी कलाकारों ने राम से बड़ा राम का नाम, प्रेम मेहरोत्रा रचित भजन नाम जपते चलो राम गाते चलो, हनुमान प्रसाद पोददार रचित भजन रे मन हरि सुमिरन कर लीजें, पद्मश्री योगेश प्रवीन रचित मेरे नैनों ने मन दरपन में जिसकी छवि उतारी है और कव्वाली शैली में संत कबीर दास के भजन हुमन है इश्क मस्ताना हमन को होशियारी क्या की प्रस्तुति दी। शिव सिंह सरोज रचित लखनलाल ने तब लखनऊ बसाया, कमला श्रीवास्तव रचित हे पवनपुत्र हनुमान तुम्हारा नाम बड़ा बजरंग बली के साथ भजनों की सुर सरिता में सबने डुबकी लगाई।
लोक संस्कृति शोध संस्थान की सचिव सुधा द्विवेदी ने बताया कि 8 जून से चल रही आनलाइन कार्यशाला में देश-विदेश की 88 प्रतिभागी सम्मिलित रहे। मंचीय प्रस्तुति में अलका चतुर्वेदी, आभा शुक्ला, अवनीश शुक्ला, आशा श्रीवास्तवा, अंजलि सिंह, डॉ. अंजलि मिश्रा, अंजलि शर्मा, अंजना घोष, अरुणा उपाध्याय, अनुज श्रीवास्तव, अनुराधा दीक्षित, डॉ. अर्चना सिन्हा, अनमोल प्रजापति, भारती श्रीवास्तव, डॉ. भक्ति शुक्ला, भगवती पाण्डेय, भावना शुक्ला, चित्रा जायसवाल, गोपाली चन्द्रा, भजन गायक गौरव गुप्ता, वरिष्ठ लोकगायिका इन्द्रा श्रीवास्तव, ज्योति किरन रतन, कल्पना सक्सेना, कामिनी श्रीवास्तव कीर्ति, कुमकुम मिश्रा, मधु श्रीवास्तव, मीतू मिश्रा, मीना मिश्रा, मनीषा बिष्ट, मंजुल रायजादा, ममता यादव, नीरा मिश्रा, निशा गुप्ता, नवनीता जफा, निधि निगम, निहारिका सिन्हा, नम्रता मिश्रा, नीलम वर्मा, प्रीति श्रीवास्तव, पूर्णिमा धर्मेश कानूनगो, प्रगति राठौर, कानपुर, डा. प्रिया लक्ष्मी, रंजना शंकर, रंजना घोष, रत्ना शुक्ला, रीता पाण्डेय, रेखा मिश्रा, डॉ. रीना मिश्रा, रचना गुप्ता, रोशनी मिश्रा, रेखा अग्रवाल, रमा जोशी, रश्मि उपाध्याय, रीता अग्रवाल, रिंकी विश्वकर्मा, रंजना शरन, सीमा अग्रवाल, शैलजा श्रीवास्तव, सरिता श्रीवास्तव, सरिता अग्रवाल, संगीता खरे, संगीता दूबे, डॉ. सुरभि सिंह, श्यामा गुप्ता, सुमन शर्मा, स्वरा त्रिपाठी, सुनीता श्रीवास्तव, सुनीता पाण्डेय, सुषमा प्रकाश, सुधा अवस्थी, डॉ. सरोजिनी सक्सेना, सरला गुप्ता, सौरभ कमल, सविता पाण्डेय, शकुन्तला श्रीवास्तव, शालिनी सिंह, शशि वर्मा, शशि सिंह, शक्ति श्रीवास्तव, साधना श्रीवास्तव, सीमा विरमानी, सुधा द्विवेदी, सविता काहोल, तनु भार्गव, उषा पाण्डिया, डॉ. वन्दिता सिन्हा, वन्दना शुक्ला आदि प्रमुख रहे।

Post a Comment

0 Comments