Pages

भारतीय बालिका विद्यालय : लगा स्वास्थ्य मेला, नुक्कड़ नाटक से दिया ये संदेश

स्वास्थ्य विभाग, पीएसआई-इंडिया, सीफार व अंकुर चेतना शिविर ने किया सहयोग

नुक्कड़ नाटक ‘चुप्पी तोड़ो” की प्रस्तुति को सभी ने सराहा 

लखनऊ। शाहनजफ रोड स्थित भारतीय बालिका विद्यालय इंटर कॉलेज के तत्वावधान में बुधवार को विद्यालय प्रांगण में बालिका स्वास्थ्य मेला आयोजित किया गया। इसमें स्वास्थ्य विभाग के साथ ही स्वयंसेवी संस्था पॉपुलेशन सर्विसेज इंटरनेशनल (पीएसआई) इंडिया द्वारा संचालित द चैलेंज इनिशियेटिव (टीसीआई), सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च (सीफॉर), अंकुर चेतना शिविर ने सहयोग प्रदान किया। विद्यालय की प्रबंधिका रीता सिंह ने अतिथियों का स्वागत किया।
स्वास्थ्य मेले का उद्घाटन करते हुए संयुक्त निदेशक शिक्षा सुरेन्द्र कुमार तिवारी ने कहाकि आजादी के अमृत महोत्सव पर विद्यालय द्वारा आयोजित स्वास्थ्य मेला एक अच्छी पहल है। इसके माध्यम से छात्राएं अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होंगी और वह दूसरों को भी जागरूक करेंगी। जो भी बातें स्वास्थ्य मेले में बताई जाएंगी उनको घर जाकर वह अन्य लोगों से साझा करेंगी।
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन-उत्तर प्रदेश के राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम(आरकेएसके) के उप महाप्रबंधक डा. आनंद कुमार ने बताया कि किशोर/किशोरियों के लिए आरकेएसके कार्यक्रम पूरे प्रदेश में चलाया जा रहा है। इस कार्यक्रम के तहत आयरन फोलिक एसिड की गोलियों का वितरण आंगनबाड़ी केंद्रों और स्कूलों के माध्यम से किया जाता है। इसके साथ ही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, जिला अस्पताल में किशोर-किशोरी क्लिनिक स्थापित की गई है। जिसके माध्यम से किशोर-किशोरियों के शारीरिक एवं मानसिक समस्याओं का इलाज किया जाता है तथा उनके द्वारा साझा की गई बातों को गोपनीय रखा जाता है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से किशोर - किशोरियों के सर्वांगीण विकास पर ध्यान दिया जाता है। कार्यक्रम के अंत में विद्यालय की प्राधानाचार्या रीता टंडन ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर खेल और पढ़ाई में अच्छा प्रदर्शन करने वाली छात्राओं को पुरस्कृत किया गया।
इस मौके पर राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत आयरन फोलिक एसिड और कैल्शियम की गोलियों और सेनिटरी नैपकिन का वितरण किया गया। इसके साथ ही लगभग 500 छात्राओं का वजन लिया गया, लंबाई नापी गयी तथा स्वास्थ्य जांच की गई। इस मौके पर कोविड हेल्प डेस्क भी बनायी गई थी। स्वास्थ्य मेले में 90 लोगों ने कोविड टीकाकरण भी कराया। कार्यक्रम में छात्राओं द्वारा तैयार किये गए हस्तनिर्मित उत्पादों तथा विभिन्न खेलों में छात्राओं द्वरा जीते गए अवार्ड की प्रदर्शनी भी लगाई गई।
सीफार के तत्वावधान में किशोरी स्वास्थ्य एवं माहवारी प्रबंधन पर अनहद क्रिएशन्स के कलाकारों द्वारा “चुप्पी तोड़ो” नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किया गया। इसके माध्यम से मासिक धर्म से जुड़ी भ्रांतियों को दूर करने के साथ ही इस दौरान विशेष साफ़-सफाई रखने का सन्देश दिया गया। कलाकारों की प्रस्तुति को मेले में उपस्थित सभी लोगों ने सराहा।
इस मौके पर हेल्प एज इंडिया ने बुजुर्गों के प्रति दुर्व्यवहार न करने को लेकर हस्ताक्षर अभियान चलाया। अंकुर चेतना शिविर ने मानसिक स्वास्थ्य पर छात्राओं की काउंसलिंग की तथा 124 छात्राओं का साइकोमेट्रिक टेस्ट भी किया। इस अवसर पर स्वयंसेवी संस्था नेशनल एसोसिएशन ऑफ ब्लाइंडस द्वारा स्टाल लगाया गया जिसमें नेत्रहीनों द्वारा बनायी गई राखियों का प्रदर्शन किया गया।
इस मौके पर जिला विद्यालय निरीक्षक राकेश कुमार, दिनेश कुमार सिंह राठौर, सीफार की नेशनल प्रोजेक्ट लीड रंजना द्विवेदी, हेल्प एज इंडिया के स्टेट हेड अशोक कुमार, शिक्षिकाएं, पूर्व छात्र संगठन “यालिनी” के सदस्य, स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि, छात्राएं और स्कूल का स्टाफ उपस्थित रहा।

Post a Comment

0 Comments