Pages

बप्पा के दरबार में गूंजे भोलेनाथ के भजन

लखनऊ। श्री गणेश प्राकट्य कमेटी के तत्वावधान में झूलेलाल वाटिका में चल रहे 18वें मनौतियों के राजा के गणेशोत्सव के तीसरे दिन शुक्रवार को पण्डाल में सुबह भगवान श्री गणेश की पूजन, पाशांकुश पूजन सम्पन्न हुआ। बनारस के आचार्य कमलेश ने पाशांकुश पूजन के महिमा बखान करते हुये लोगों को बताया कि पाशांकुश भगवान गणेश जी का अस्त्र है। हम भगवान गणेश से प्रार्थना करते है उसकी शक्तियां हमारे साथ रहे। जिससे हम बचे रहे। 

पूजन में कमेटी के भारत भूषण गुप्ता, अनिल अग्रवाल, सतीश अग्रवाल, भीम अग्रवाल, शरद अग्रवाल, अखिलेश बंसल, रंजीत सिंह, संजय गांधी, घनश्याम अग्रवाल, संध्या बंसल, अंजू गुप्ता, रुक्मणी अग्रवाल, अंशू बंसल, आशा अग्रवाल, नीरज सिंह, बिन्नी बंसल, नेहा अग्रवाल आदि लोग मौजूद रहे। शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रम में कोलकाता के संजय शर्मा और राजधानी की समिता श्रीवास्तव के निर्देशन में भजन संध्या व नृत्य नाटिका का मंचन हुआ।

सुमिता श्रीवास्तव ने भजन की शुरुआत घर में पधारो  गजानन..., से की। उसके बाद उन्होंने भोलेनाथ का एक सुन्दर भजन भोले के हम दीवाने हैं.., सुनाया तो बप्पा के दरबार में भोलेनाथ के जयकारे गूंजे। भजन सरिता को आगे बढ़ाते हुये उन्होंने गणपति राखें मेरी लाज.. तथा मेरे अंगना पधारो श्री गणेश जी... भजन सुनाकर माहौल को भक्तिमय बनाया। उसके बाद सुमिता के निर्देशन ‘माता सती ने अपना शरीर क्यो त्याग दिया’ पर नृत्य नाटिका का मंचन हुआ।

उत्सव के मुख्य आकर्षण
3 सितम्बर- दूर्वाभिषेक, मध्यान्ह 12 बजे,
5 सितम्बर- छप्पन भोग, रात्रि 8 बजे
7 सितम्बर- सिन्दूराभिषेक मध्यान्ह 12 बजे,
8 सितम्बर- महाभिषेक मध्यान्ह 12 बजे, तथा महामोदक रात्रि 8ः00 बजे

Post a Comment

0 Comments