Pages

लखनऊ के हजरतगंज में लेवाना होटल में लगी भीषण आग, 20 से अधिक लोग झुलसे, 2 की मौत

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में सोमवार को एक बार चारबाग होटल अग्निकांड की याद ताजा हो गई। वर्ष 2018 में भीषण अग्निकांड में आठ लोगों को जिंदा जलकर मौत हो गई थी। सोमवार को राजधानी के हजरत गंज स्थित लेवाना होटल में सुबह आग लग गई। आग इतनी भयावह थी कि कई लोग झुलस गए। नौ लोगों सरकारी अस्पताल में भर्ती कराए गए हैं जबकि 5 लोग की मौत होने की सूचना है। होटल से बाहर एक प्रत्यक्षदर्शी ने अंदर अभी भी 20 से अधिक लोगों के फंसे होने की आशंका जताई थी।

आग बुझाने के काम में लगा एक कर्मचारी भी आग से झुलस गया है। उसे अस्पताल भेजा गया है। 



बता दें कि रास्ते को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है और 15 दमकल गाड़ियां मौके पर पहुंच गई हैं। आग बुझाने का प्रयास जारी है। दमकलकर्मी इस वक़्त तीसरी मंजिल पर आग बुझा रहे हैं। होटल की खिड़कियों के शीशे को तोड़कर लोगों को बाहर निकाला गया है। 

जिलाधिकारी ने क्या कहा

लखनऊ के जिलाधिकारी सूर्यपाल गंगवार ने बताया कि कुछ लोगों को निकाल लिया गया है और अंदर फंसे लोगों को निकालने की कोशिश की जा रही है। बताया कि आग किस कारण से लगी इसका पता लगाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि होटल के मालिक ने पहले फ्लोर पर स्थित बैंक्वेट हाल से आग लगने की आशंका जताई है। उन्होंने बताया कि इस होटल में 30 कमरे थे। इनमें से 18 कमरों में लोग रुके हुए थे। उन्होंने बताया कि इन कमरों में 35-40 लोग रुके हुए थे। इनमें से कुछ लोगों ने आग लगने से पहले ही होटल छोड़ दिया था। होटल में रुके लोगों ने जो मोबाइल नंबर दिया था, उसके आधार पर लोगों से संपर्क किया जा रहा है।

 अभी तक भर्ती, 2 की मौत

सिविल अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आरपी सिंह ने बताया कि अभी तक 7 लोगों को भर्ती किया गया है। जबकि दो लोग मरे पहुंचे। जिसमें एक महिला व पुरुष हैं।


शार्ट सर्किट की वजह से आग लगने की संभावना 

डीएम सूर्यपाल गंगवार ने बताया कि संभावना है कि शार्ट सर्किट की वजह से आग लगी हो। पहले तल पर बैंक्वेट है। जहां ज़्यादा मरीज़ थे। 35-40 लोग यहां रहे होंगे। सिविल अस्पताल ले जाया गया है। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. मनोज अग्रवाल ने बताया कि मरीज़ों के लिए 13 एम्बुलेंस लगा दी गई हैं।


दुर्घटना में घायल लोगों का समुचित उपचार कराया जाए-मुख्यमंत्री

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद लखनऊ के लेवाना होटल में लगी आग का संज्ञान लिया। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन के अधिकारियों को घायलों का समुचित उपचार कराने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही जिलाधिकारी और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को मौके पर तत्काल पहुंचने और राहत - बचाव कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए है।

लखनऊ विकास प्राधिकरण की कार्यशैली पर फिर उठे सवाल

लखनऊ के सबसे पॉश इलाका हजरतगंज में मानक के विपरीत बने होटल लेवाना को तत्कालीन संयुक्त सचिव ऋतु सुहास की ओर से नोटिस जारी की गई थी। उनके गाजियाबाद ट्रांसफर होने के बाद मामला काटने के बाद ठंडे बस्ते में चला गया। बता दें कि चारबाग होटल में अग्निकांड के बाद ऋतु सुहास ने बडी कारवाई करते हुए दोनों होटलों को ध्वस्त करा दिया था। उस दौरान शहर के अन्य होटलों की जांच के आदेश दिए गए थे लेकिन जिम्मेदार अधिकारी और इंजीनियरों ने आंखें बंद कर ली। उसी का नतीजा है कि आज एक बार दो लोगों को आग m जिंदा जलकर जान गवानी पड़ी। 


मुख्यमंत्री ने लिया मामले का संज्ञान राहत बचाव कार्य जारी

छोटे-छोटे निर्माणों पर कार्यवाही कर लखनऊ विकास प्राधिकरण थपथपा रहा है अपनी पीठ

बड़े-बड़े होटल और कमर्शियल कंपलेक्स बनाने वाले बिल्डरों के आगे नतमस्तक लखनऊ विकास प्राधिकरण

हजरतगंज में तैनात अभियंता जितेंद्र दुबे शासन तक रखते हैं अपनी पहुंच कार्यवाही के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति

हजरतगंज में तैनात अभियंता जितेंद्र दुबे की भी होनी चाहिए विभागीय जांच

तैनाती के दौरान कितने आवासीय में बनवाए कमर्शियल कंपलेक्स और खुले होटल

उपाध्यक्ष डॉक्टर इंद्रमणि त्रिपाठी के सख्त निर्देश के बावजूद अभियंता लगातार बिल्डरों से मिलकर निर्माण कार्य कराने में जुटे

Post a Comment

0 Comments