Pages

CBSE 10 वीं के छात्रों का ऐसे होगा मूल्यांकन, UP board के लिए भी उठी मांग

नई दिल्ली/लखनऊ. भारत में कोहराम मचा रहे कोरोना असर सबसे ज्यादा पढ़ाई पर पड़ा है. बीते साल बोर्ड परीक्षाएं हो चुकी थी मगर इस साल छात्रों के भविष्य पर कोरोना ने ग्रहण लगा दिया है. संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए भारत सरकार ने सीबीएसई की परीक्षाओं को रद्द करने या आगे बढ़ाने को लेकर उठ रही मांगों के मद्देनजर पीएम मोदी ने आज शिक्षा मंत्रालय के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की. इसी बैठक में फैसले के बाद ही शिक्षा मंत्रालय ने परीक्षाओं को रद्द और स्थिगित करने की घोषणा की है. 

CBSE बोर्ड की परीक्षाओं को लेकर बड़ा फैसला लिया गया है. फिलहाल, सीबीएसई 10वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी गई हैं जबकि 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं. केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने कहा है कि 10वीं के नतीजे बोर्ड द्वारा तैयार किए गए मापदंड के आधार पर तैयार किए जाएंगे. 12वीं कक्षा की परीक्षाएं बाद में होंगी.1 जून को बोर्ड स्थिति की समीक्षा करेगा. इसके बाद आगे फैसला लिया जाएगा. 


मूल्यांकन से संतुष्ट न होने पर दे सकेंगे परीक्षा 

"10वीं क्लास के छात्रों को आतंरिक मूल्यांकन के आधार पर अगली क्लास में भेजा जाएगा. अगर कोई छात्र मूल्यांकन से संतुष्ट नहीं है तो कोरोना से हालात सामान्य होने पर वह परीक्षा दे सकता है."


सीबीएसई परीक्षाओं को रद्द करने की हो रही थी मांग 

इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित कई नेताओं ने कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते खतरों के मद्देनजर सीबीएसई परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की थी.

चार मई से शुरू होनी थी परीक्षा 

सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाएं 4 मई से शुरू होकर 10 जून तक चलनी थी. वहीं 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं का रिजल्ट 15 जुलाई तक घोषित करने का एलान किया गया था. 

यूपी बोर्ड परीक्षा की तिथि को आगे बढ़ाने की मांग 

उत्तर प्रदेश में भी बोर्ड परीक्षा स्थगित करने की मांग होने लगी है. प्रगति समाजवादी पार्टी के मुखिया शिवपाल सिंह ने इस सम्बन्ध में ट्वीट करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण और इससे होने वाली मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है. कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप, वर्तमान हालात, अनिश्चितता व संशय को देखते हुए 08 मई से शुरू होने वाली यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को स्थिति सामान्य होने तक आगे बढ़ाया जाना चाहिए. 





Post a Comment

0 Comments