Pages

एकेटीयू : कार्यपरिषद की 42वीं बैठक में लिये गये कई महत्वपूर्ण फैसले

लखनऊ। डाॅ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय में शनिवार को कुलपति प्रो. प्रदीप कुमार मिश्र की अध्यक्षता में कार्यपरिषद की 42वीं बैठक हुई। बैठक में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर निर्णय लिया गया। इनोवेशन एंड इंटरप्रिन्योरशिप और ट्रेनिंग और प्लेसमेंट के लिए दो डीन की नियुक्ति को हरी झंडी मिली। वहीं, विश्वविद्यालय द्वारा सामाजिक कार्यों में सक्रिय सहभागिता के लिए नीति निर्धारण पर सहमती बनी। साथ ही विश्वविद्यालय एल्युमनाई एसोसिएशन बनाने के प्रस्ताव को सैद्धांतिक मंजूरी दी गयी। विश्वविद्यालय से संबद्ध संस्थाओं को स्थाई संबद्धता प्रदान करने पर विचार किया गया।

दो डीन की नियुक्ति को हरी झंडी

बैठक में इनोवेशन एंड इंटरप्रिन्योरशिप और ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट के लिए दो डीन की नियुक्ति पर सहमति बनी है। नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देने में जहां डीन की नियुक्ति से बल मिलेगा वहीं संगठित तरीके से कार्य भी होंगे। इसी तरह से ट्रेनिंग और प्लेसमेंट के लिए डीन नियुक्त होने का फायदा सीधे छात्रों को मिलेगा। इससे न केवल छात्रों को बेहतर ढंग से प्रशिक्षण मिलेगा बल्कि उनके प्लेसमेंट में भी निरंतरता आएगी।

मैनेजमेंट व फाॅर्मेसी संकाय शुरू करने पर सहमति

पिछले दिनों विद्यापरिषद की हुई बैठक में विश्वविद्यालय परिसर में दो संकाय स्कूल ऑफ फाॅर्मेसी और स्कूल ऑफ मैनेजमेंट स्थापित करने के निर्णय को कार्यपरिषद की बैठक में सैद्धांतिक सहमति दी गयी। वहीं मैनेजमेंट के तहत हाॅस्पिटल मैनेजमेंट शुरू करने के लिए कमेटी गठित की गयी।  

सामाजिक कार्यों में सहभागिता को नीति निर्धारण

विश्वविद्यालयी स्तर पर सामाजिक कार्यों में सहभागिता के लिए नीति निर्धारण करने पर सैद्धांतिक सहमति बनी। शैक्षणिक कार्यों के साथ ही समय-समय पर विश्वविद्यालय सामाजिक सरोकारों में भी अपनी सहभागिता करता रहा है। आंगनबाड़ी केंद्रों को गोद लेकर सुविधा सम्पन्न बनाने के साथ ही कई गांवों में जागरूकता कार्यक्रम सहित स्वास्थ्य संबंधी जानकारी भी दी जाती रही है। जागरूकता के लिए विश्वविद्यालय की ओर से कैंप लगाया जाएगा।

एलुमिनाई एसोसिएशन के गठन को सैद्धांतिक मंजूरी

बैठक में विश्वविद्यालय के एलुमिनाई एसोसिएशन के गठन पर चर्चा हुई। जिसे सैद्धांतिक मंजूरी दी गयी। इस एसोसिएशन के गठन से पुरातन छात्र विश्वविद्यालय से फिर जुड़ सकेंगे। जिसका लाभ विश्वविद्यालय को मिलेगा। क्योंकि देश ही नहीं दुनिया भर में यहां के छात्र काम कर रहे हैं। वहीं, कार्य परिषद की बैठक में विश्वविद्यालय से संबद्ध संस्थानों को स्थाई संबद्धता देने के प्रस्ताव पर अनुमति के लिए शासन को भेजा गया है।

बैठक में छत्रपति साहूजी महाराज विश्वविद्यालय कानपुर के कुलपति प्रो. विनय पाठक, आईआईटी रूढ़की के प्रो. संदीप सिंह, आईआईटी कानपुर के प्रो. मणींद्र अग्रवाल, मैजेस्टी ऑटो लिमिटेड के अध्यक्ष डाॅ. महेश मुंजाल, कुलसचिव श्री नंदलाल सिंह, प्रतिकुलपति प्रो. मनीष गौड़, वित्त अधिकारी जीपी सिंह प्रो. वंदना सहगल, आईईटी के निदेशक प्रो. विनीत कंसल, प्रो. एमके दत्ता, डिप्टी रजिस्ट्रार डाॅ. आरके सिंह सहित अन्य लोग मौजूद रहे।  


डाॅ0 पवन कुमार त्रिपाठी

जनसम्पर्क अधिकारी

Post a Comment

0 Comments