Pages

कान्हा और शिव की नृत्यमय झांकी प्रस्तुत कर अवंतिका ने जीता दिल

“सृजन-कोरोना से डरो ना” ऑनलाइन शो के माध्यम से लोगों को किया जा रहा है जागरुक 

लखनऊ। सृजन फाउण्डेशन के फेसबुक लिंक पर सोमवार 3 मई को “कोरोना से डरो ना, उससे मिल के लड़ो ना-सीजन-2”, ऑनलाइन-शो में बाल नृत्यांगना अवंतिका मिश्रा ने कान्हा और भोले भंडारी के भजनों पर मनभावन नृत्य किया। अवंतिका मिश्रा ने कान्हा के बाल ग्वाला लीला की झांकी पेश करते हुए मशहूर भजन “छोटी छोटी गैया छोटे छोटे ग्वाल, छोटो सो मेरो मदन गोपाल” पर सुंदर नृत्य किया। इस क्रम में उन्होंने युवा कान्हा की झांकी मरली बजइया के रूप में पेश की। अवंतिका ने “ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान” पर बेहतरीन भाव और नृत्य मुद्राओं का प्रदर्शन किया। अंत में उन्होंने महादेव की झांकी पेश की। उसमें उन्होंने “घड़ी घड़ी भांग न पिसाओ भोला जी” पर सुंदर नृत्य किया।

सृजन फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ.अमित सक्सेना ने बताया कि इस अभियान में शामिल होने के लिए वॉट्सऐप नम्बर 8887934036 पर संपर्क किया जा सकता है। दैनिक क्रम में यह सृजन फाउण्डेशन के फेसबुक लिंक पर अपडेट किया जाएगा। उन्होंने लोगों का आवाह्न किया कि अपने चारों ओर सकारात्मक हो रही गतिविधियों को भी वह वॉट्सऐप पर भेज सकते हैं। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता स्वतंत्रता दिवस पर सभी को शुमकामनाएं दी। उन्होंने बताया कि साल 1991 में यूनेस्को और संयुक्त राष्ट्र के 'जन सूचना विभाग' ने मिलकर इसे मनाने का निर्णय किया था। 'संयुक्त राष्ट्र महासभा' ने भी '3 मई' को 'अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता स्वतंत्रता दिवस' की घोषणा की थी। यूनेस्को महासम्मेलन के 26वें सत्र में 1993 में इससे संबंधित प्रस्ताव को स्वीकार किया गया था। इस दिन के मनाने का उद्देश्य प्रेस की स्वतंत्रता के विभिन्न प्रकार के उल्लघंनों की गंभीरता के बारे में लोगों को जागरुक करना है।

Post a Comment

0 Comments