Pages

बाल निकुंज : यूपी बोर्ड में मेधावियों ने लहराया सफलता का परचम, छात्राओं का रहा दबदबा

रिजल्ट देख खिल उछल पड़े मेधावियों में दिखा उत्साह

लखनऊ। काफी इंतजार के बाद शनिवार को यूपी बोर्ड के हाईस्कूल व इंटरमीडिएट का परीक्षाफल जारी हो गया। जिसमें विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी बाल निकुंज स्कूल्स एंड कॉलेजेज का दबदबा रहा और छात्राओं ने बाजी मारी। 10वीं में बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर शाखा की रिया सिंह, रोशनी शुक्ला, दिव्यांशी यादव, दिव्यांशी मिश्रा अंशिका मौर्या सहित कई छात्राओं ने 95.5 प्रतिशत और पल्टन छावनी की प्रियांशी सिंह व सोनू यादव ने 92.6 प्रतिशत अंक हासिल कर विद्यालय व अपने परिवार का मान बढ़ाया। 

वहीं 12वीं में मोहिबुल्लापुर शाखा की दीपाली सिंह, तृप्ति अवस्थी, प्रशांत श्रीवास्तव ने 89.4 प्रतिशत अंक हासिल किया। मेधावियों ने सफलता का श्रेय टीचर्स व पैरेंट्स को दिया। मेधावियों ने बिना परीक्षा मूल्यांकन के आधार पर मिले अंक पर संतुष्टि जाहिर की। हालांकि कुछ मेधावियों का कहना था कि उन्होंने परीक्षा की पूरी तैयारी की थी, यदि परीक्षा होती तो इससे भी बेहतर परिणाम आते। 

विद्यालय के एमडी एचएन जायसवाल ने सभी मेधावियों को माला पहनाकर व मिठाई खिलाकर बधाई देते हुए इसे टीचर्स व स्टूडेंट्स की कड़ी मेहनत और पैरेंट्स के सहयोग का परिणाम बताया। उन्होंने कहाकि कोरोनाकाल में चल रही ऑनलाइन पढ़ाई में बच्चों व टीचर्स के साथ ही अभिभावकों का भी सहयोग सराहनीय है।

आईएएस, आईपीएस, चिकित्सक व इंजीनियर बनना चाहते हैं मेधावी

रिया सिंह
10वीं में 95.5 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा रिया सिंह कंप्यूटर इंजीनियर बनना चाहती हैं। रिया के पिता रावेन्द्र सिंह नौकरी करते है और मां मंजू सिंह गृहणी हैं।




10वीं में 95.5 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा रोशनी शुक्ला आईएएस अधिकारी बनकर देश की सेवा करनी चाहती हैं। रोशनी के पिता महेंद्र कुमार शुक्ला बिजनेस मैन है और मां रीना शुक्ला गृहणी हैं।

10वीं में 95.5 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा दिव्यांशी यादव अपने पिता की तरह इंजीनियर बनना चाहती हैं। दिव्यांशी के पिता धनपत यादव इंजीनियर है और मां किरण यादव गृहणी हैं।

दिव्यांशी मिश्रा
10वीं में 95.5 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा दिव्यांशी मिश्रा की तमन्ना चिकित्सक बनकर उन गरीब मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराना है  जो आर्थिक अभाव के कारण इससे वंचित रह जाते हैं। दिव्यांशी के पिता अशोक मिश्रा प्राइवेट नौकरी करते हैं और मां सीमा मिश्रा गृहणी हैं।

10वीं में 95.5 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा अंशिका मौर्या की तमन्ना पुलिस सेवा में जाने की हैं। अंशिका के पिता सुरेश कुमार मौर्या प्राइवेट नौकरी करते हैं और मां शारदा गृहणी हैं।

10वीं में 94.8 प्रतिशत अंक हासिल करने वाले बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर ब्वॉयज विंग के छात्र अंशिक पटेल की तमन्ना आईपीएस अधिकारी बनकर देश की सेवा करना चाहते हैं। अंशिक के पिता पुत्तीलाल सरकारी नौकरी में हैं और मां निर्मला देवी गृहणी हैं।

प्रियांशी सिंह 94.5%
10वीं में 94.5 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा प्रियांशी सिंह की तमन्ना कंप्यूटर साइंस इंजीनियर बनने की हैं। प्रियांशी के पिता राजकुमार सिंह प्राइवेट नौकरी करते हैं और मां मंजू सिंह गृहणी हैं।

10वीं में 92.66 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंग्लिश स्कूल पल्टन छावनी शाखा की छात्रा प्रियांशी सिंह आईएएस अधिकारी बनकर देश की सेवा करना चाहती हैं। प्रियांशी के पिता डा. उमेश सिंह चिकित्सक हैं और मां सुषमा सिंह गृहणी हैं।

10वीं में 92.6 प्रतिशत अंक हासिल करने वाले बाल निकुंज इंग्लिश स्कूल पल्टन छावनी शाखा के छात्र सोनू यादव की भी तमन्ना प्रशासनिक सेवा (आईएएस अधिकारी) में जाने की हैं। अंशिका के पिता महेंद्र यादव किसान हैं और मां कलावती देवी गृहणी हैं।

12वीं में 89.4 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा दीपाली सिंह की तमन्ना इंजीनियर बनने की हैं। दीपाली के पिता देवेंद्र सिंह बिजनेस मैन हैं और मां सुनीता सिंह गृहणी हैं।

12वीं में 89.4 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा दीपाली सिंह की तमन्ना इंजीनियर बनने की हैं। दीपाली के पिता देवेंद्र सिंह बिजनेस मैन हैं और मां सुनीता सिंह गृहणी हैं।



12वीं में 89.4 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा तृप्ति अवस्थी की तमन्ना भी इंजीनियर बनने की हैं।

12वीं में 89.4 प्रतिशत अंक हासिल करने वाले बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर ब्वॉयज विंग के छात्र प्रशांत श्रीवास्तव की तमन्ना आईएएस अधिकारी बनकर देश सेवा करने की हैं। प्रशांत के पिता दीपचंद्र श्रीवास्तव व्यापारी हैं और मां अमिता श्रीवास्तव गृहणी हैं।

अनुष्का बाजपेई
12वीं में 87.4 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा अनुष्का बाजपेई की तमन्ना चिकित्सक बनकर उन गरीब मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराना है  जो आर्थिक अभाव के कारण इससे वंचित रह जाते हैं। अनुष्का के पिता संजय बाजपेई प्राइवेट नौकरी करते हैं और मां बबिता बाजपेई गृहणी हैं।

सैय्यद लका रहमानी
12वीं में 87 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा सैय्यद लका रहमानी की तमन्ना आईएएस अधिकारी बनकर देश सेवा करने की हैं। सैय्यद लका रहमानी की मां सरवरी बेगम शिक्षिका हैं। सैय्यद लका रहमानी ने बताया कि मां के साथ ही उसके मामा सैय्यद इरफान हैदर जाफरी ने उसका पालन पोषण किया है। उसकी पढ़ाई का पूरा खर्च भी मामा उठा रहे हैं।

12वीं में 87 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा हसीना खातून की तमन्ना चिकित्सक बनकर उन गरीब मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराना है  जो आर्थिक अभाव के कारण इससे वंचित रह जाते हैं। हसीना मां शहनाज बानो गृहणी हैं।

12वीं में 86 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली बाल निकुंज इंटर कॉलेज मोहिबुल्लापुर गर्ल्स विंग की छात्रा शगुन शुक्ला की तमन्ना शिक्षिका बनकर देश में शिक्षा की अलख जगाने की है। शगुन के पिता मुकेश शुक्ला प्राइवेट नौकरी करते हैं और मां मोनिका शुक्ला गृहणी हैं।

Post a Comment

0 Comments