Pages

बाल निकुंज : पंक्तियों को सुनाकर बाल कवियों ने किया मंत्रमुग्ध

लखनऊ। हिंदी दिवस के मौके पर बाल निकुंज स्कूल्स एंड कॉलेजेज में आयोजित ‘नवोदित बाल कवि सम्मेलन’ में सभी शाखाओं से बाल कवियों ने शिरकत की और खूब वाहवाही लूटी। दो दिवसीय कवि सम्मेलन के पहले दिन मंगलवार को प्राइमरी के नन्हे मुन्नों ने अपनी प्रतिभा का शानदार प्रदर्शन किया। बाल निकुंज गर्ल्स एकेडमी बेलीगारद शाखा के श्रीशिवसहाय जी सभागार में आयोजित सम्मेलन का शुभारम्भ बतौर मुख्य अतिथि मौजूद सेण्ट्रल बैंक ऑफ इण्डिया, अलीगंज शाखा की मैनेजर नेहा जायसवाल द्वारा माँ सरस्वती का पूजन, माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलन के साथ सरस्वती वंदना व स्वागत गीत से हुआ। 

आज के इस बाल कवि सम्मेलन की शुरूआत बाल कवियों ने हिन्दी भाषा के गुणगान से किया। इस क्रम में डे-बोर्डिंग शाखा के अक्षय शर्मा द्वारा प्रस्तुत काव्य ‘हिन्दी हमारी मुस्कान है, भारत माता की शान है, मेहमान नवाजी की आन है’ ने सबको गौरवमयी बना दिया। सिद्धि राजपूत ने माँ के गौरवपूर्ण भूमिका के लिए जोरदार शब्दों में "प्यारी जग से न्यारी है माँ, लोरी हमें सुनाती है माँ" से सबको आनन्दित कर दिया। तत्पश्चात् अनित सिंह ने जोरदार अंदाज में ‘जन-जन की भाषा है हिन्दी, भारत की आशा है हिन्दी’ प्रस्तुत किया तो तालियों की गड़गड़ाहट से माहौल गुंजायमान हो उठा। तदुपरान्त देवांश गुप्ता ने जोश भरे अन्दाज में ‘हिन्दी हमारी ऑन है, हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारी अस्मिता, हिन्दी हमारा सम्मान है’ और उमंग चौरसिया ने वीर रस की कविता ‘मैं वीर पुत्र मेरी जननी के जगती में जौहर अपार, अकबर के पुत्रों से पूछा क्या याद उन्हें मीना बाजार’ सुनाकर सबको वीर रस से भिगो दिया। 

कालेज कोआर्डिनेटर सुधीर मिश्रा ने बाल कवि को फूल माला पहनाकर उत्साहवर्द्धन किया। कार्यक्रम के समापन पर मुख्य अतिथि सेण्ट्रल बैंक ऑफ इण्डिया, अलीगंज शाखा की मैनेजर नेहा जायसवाल और संस्थान के एमडी एचएन जायसवाल ने बाल कवियों को प्रशस्ति पत्र व पुरस्कार प्रदान कर सम्मानित किया। इस अवसर पर विद्यालय प्रबंध निदेशक एच.एन. जायसवाल, कोआर्डिनेटर सुधीर मिश्रा, बाल निकुंज इंग्लिश स्कूल पल्टन छावनी शाखा की प्रधानाचार्या रश्मि शुक्ला, बाल निकुंज गर्ल्स एकेडमी बेलीगारद शाखा की प्रधानाचार्या डॉ. अनूप कुमारी शुक्ला एवं हिन्दी विषय के शिक्षक व अभिभावक उपस्थित थे। विद्यालय के प्रबंध निदेशक एच.एन. जायसवाल ने बताया कि दूसरे दिन बुधवार को  कक्षा 7 से 12 तक के बाल कवियों को आमंत्रित किया गया है।

Post a Comment

0 Comments