Pages

आइवरमेक्टिन ने यूपी में कोविड-19 के प्रभावी प्रबंधन में निभाई अहम भूमिका - डॉ. सूर्यकान्त

विश्व आइवरमेक्टिन दिवस पर विशेष

लखनऊ। पहला विश्व आइवरमेक्टिन दिवस वर्ष 2021 में फ्रंट लाइन कोविड -19 क्रिटिकल केयर एलायंस द्वारा शुरू किया गया था। इसका उद्देश्य कोविड-19 उपचार और रोकथाम सहित आइवरमेक्टिन दवा के जीवन रक्षक लाभों के बारे में व्यापक जागरूकता पैदा करना था। विश्व आइवरमेक्टिन दिवस पर शनिवार को डॉ. सूर्यकान्त ने कोविड-19 के खिलाफ एक हथियार के रूप में इस चमत्कारी दवा के इस्तेमाल पर अपने दृष्टिकोण और महत्वपूर्ण कार्यों की एक झलक साझा की। उन्होंने कहा कि कोविड - 19 ने पिछले ढाई साल से मानवता को गंभीर रूप से प्रभावित किया है। 25 करोड़ की आबादी वाले सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश ने बहुत प्रभावी ढंग से कोविड 19 को नियंत्रित किया है और आइवरमेक्टिन ने कोविड के उपचार और रोकथाम में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उत्तर प्रदेश भारत का पहला राज्य था, जिसने 6 अगस्त 2020 को कोविड के उपचार और रोकथाम के लिए आइवरमेक्टिन आधारित सरकारी आदेश जारी किया था।
डॉ. सूर्यकान्त जो कि किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय, लखनऊ में रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर एवम् विभागाध्यक्ष हैं, इस सरकारी आदेश को तैयार करने के लिए समिति के लिए एक महत्वपूर्ण विशेषज्ञ के रुप में थे। डॉ. सूर्यकान्त और भारत के अन्य विशेषज्ञों ने आइवरमेक्टिन पर दुनिया का पहला और एकमात्र श्वेत पत्र प्रकाशित किया, जो कि उत्तर प्रदेश के आइवरमेक्टिन पर आधारित कोविड उपचार एवं बचाव प्रोटोकॉल के शासनादेश का मुख्य वैज्ञानिक आधार बना। डॉ. सूर्यकान्त को कोविड-19 के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट कार्य को देखते हुए फ्रंट लाइन कोविड-19 क्रिटिकल केयर एलायंस के अंतरराष्ट्रीय सदस्य के रूप में शामिल किया गया है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अब तक दुनिया में कोरोना से 63 लाख मौतों सहित कुल 56.5 करोड़ पुष्ट मामले दर्ज किए गए हैं। भारत में अब तक 5.25 लाख मौतों के साथ 4.3 करोड़ कोरोना के कुल मामले सामने आए हैं। उत्तर प्रदेश जो देश का सबसे बड़ा राज्य है, में अब तक कोरोना के कुल 20 लाख रोगी दर्ज किए गए है (भारत में कुल मामलों का 4.5%) और 23 हजार मौतें (भारत में कुल मौतों का 4.4%) दर्ज की गईं है। उत्तर प्रदेश में अपेक्षाकृत कम मृत्यु दर और कोविड-19 के कम मामले आइवरमेक्टिन के उपयोग के कारण हुए है।
आइवरमेक्टिन को पूरी तरह से जापानी मिट्टी से टोक्यो, जापान में "किटासाटो इंस्टीट्यूट" में पृथक एक एकल सूक्ष्म जीव से खोजा गया था और इसके पीछे जापानी सूक्ष्म जीव विज्ञानी सतोशी ओमुरा थे। न्यू जर्सी में मर्क रिसर्च लैब्स के सहयोगी विलियम कैंपबेल ने पशुधन और अन्य जानवरों को प्रभावित करने वाले परजीवी कृमियों के खिलाफ उनके प्रभाव का परीक्षण किया।  1981 में, इसे पहली बार जानवरों में उपयोग के लिए व्यावसायिक रूप से पेश किया गया था। बाद में एफडीए ने इसे मनुष्यों और जानवरों में विभिन्न पर जीवी रोगों के लिए पसंद की दवा के रूप में मंजूरी दे दी, जैसे कि ओंकोसेरसियासिस, स्ट्रॉन्गिलोडायसिस, सिर की जूँ, खुजली, त्रिचुरियासिस, एस्कारियासिस, फाइलेरिया, लोआ लोआ। वर्ष 2015 में ओमुरा और कैंपबेल ने इस अद्भुत दवा की खोज के लिए शरीर विज्ञान/चिकित्सा में नोबेल पुरस्कार जीता।

आइवरमेक्टिन का वर्ष 1981 में व्यावसायीकरण किया गया था। आइवरमेक्टिन किफायती, आसानी से उपलब्ध, सुरक्षित दवा है।  2019 में, आइवरमेक्टिन को विश्व स्वास्थ्य संगठन की (21 वीं आवश्यक दवाओं की सूची) में शामिल किया गया था।

आइवरमेक्टिन कई जानवरों और मानव वायरस के खिलाफ व्यापक स्पेक्ट्रम एंटीवायरल गतिविधि करता है, जिसमें आरएनए और डीएनए दोनों वायरस शामिल हैं।  विभिन्न विषाणुओं के खिलाफ आइवरमेक्टिन की एंटीवायरल क्षमता को जटिल तंत्रों के माध्यम से मध्यस्थ किया जाता है जिसमें वायरस के परमाणु तस्करी को रोकना शामिल है।
आईएमए - एएमएस के नेशनल वॉयस चेयरमैन डॉ. सूर्यकान्त ने विभिन्न चिकित्सा पत्रिकाओं में आइवरमेक्टिन पर शोध लेख प्रकाशित किए हैं। उन्होंने विभिन्न गैर सरकारी संगठनों की मदद से ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों में कोविड-19 के उपचार और रोकथाम के लिए आइवरमेक्टिन आधारित दवा के मुफ्त वितरण की सुविधा भी प्रदान की। उन्होंने व्याख्यान, सेमिनार, वेबिनार और इलेक्ट्रॉनिक व प्रिंट मीडिया के माध्यम से कोविड 19 के आईवरमेक्टिन आधारित उपचार प्रोटोकॉल को लोकप्रिय बनाया।

Post a Comment

0 Comments