Pages

एचडीएफसी बैंक ने कर्नाटक सरकार के साथ एमओयू पर किये हस्ताक्षर

बैंगलोर। एचडीएफसी बैंक ने कर्नाटक इनोवेशन एंड टेक्नॉलॉजी सोसायटी (किट्स), कर्नाटक सरकार के साथ एक मैमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग पर हस्ताक्षर किए। एमओयू के मुताबिक एचडीएफसी बैंक ‘कर्नाटक स्टार्टअप सैल’ के साथ एचडीएफसी बैंक के ‘स्मार्टअप प्रोग्राम’ के अंतर्गत रजिस्टर्ड स्टार्टअप्स को बैंकिंग और वित्तीय सेवाएं प्रदान करेगा। इस एमओयू पर हस्ताक्षर बैंगलुरू टेक समिट के 25वें संस्करण में किया गया। मीना नागराज सी एन (आईएएस, मैनेजिंग डायरेक्टर, कर्नाटक इनोवेशन एंड टेक्नॉलॉजी सोसायटी) और अहमद जकारिया (ब्रांच बैंकिंग हेड साउथ, एचडीएफसी बैंक) ने राज्य सरकार के अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में एमओयू पर हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर एचडीएफसी बैंक की ओर से रजनीश बरुआ (ज़ोनल हेड, ब्रांच बैंकिंग) एवं मिथुन जॉन (स्टार्टअप वर्टिकल) हेड मौजूद थे। 

‘स्मार्टअप प्रोग्राम’ एचडीएफसी बैंक का फ्लैगशिप अभियान है, जिसका उद्देश्य देश में स्टार्टअप के परिवेश को बढ़ावा देना है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य स्टार्ट-अप्स को बैंक के मशहूर और अत्यधिक उन्नत स्मार्ट फाईनेंशल टूल्स द्वारा अपने लक्ष्य प्राप्त करने में मदद करना है। यह कार्यक्रम भारत सरकार के ‘स्टार्टअप इंडिया’ अभियान के अनुरूप है। बैंक किट्स के साथ जुड़ा हुआ है और इस एमओयू द्वारा इस साझेदारी को औपचारिक रूप देने की बैंक को खुशी है। एचडीएफसी बैंक पिछले 3 सालों से कर्नाटक सरकार की फ्लैगशिप स्टार्टअप ईवेंट, एलिवेट में विजेता स्टार्टअप्स का मुख्य बैंकिंग पार्टनर रहा है। बैंक ने अनेक एंजेल निवेश की कार्यशालाओं का आयोजन किया है, ताकि किट्स के साथ साझेदारी में जागरुकता बढ़ाई जा सके। इनमें से सबसे नई कार्यशाला इसी माह आयोजित की गई थी।

अहमद ज़कारिया (ब्रांच बैंकिंग हेड, साउथ, एचडीएफसी बैंक) ने कहा, ‘‘एचडीएफसी बैंक राष्ट्रनिर्माण के लिए समर्पित है, और हम देश में स्टार्टअप परिवेश को सपोर्ट करने का प्रयास करते हैं। स्मार्टअप प्रोग्राम स्टार्टअप्स को संपूर्ण एंड-टू-एंड सपोर्ट प्रदान करने का हमारा एक तत्पर प्रयास है, ताकि वो अपने लक्ष्य प्राप्त करें और वृद्धि हासिल कर सकें। हम स्टार्टअप्स को उनकी बैंकिंग की जरूरतों के विस्तृत समाधान प्रदान करने के लिए किट्स के साथ गठबंधन करने के लिए उत्साहित हैं। हम मिलकर देश में स्टार्ट-अप परिवेश को बढ़ावा देने के अपने उद्देश्य के लिए काम करते रहेंगे।’’

Post a Comment

0 Comments