Pages

आंचलिक विज्ञान नगरी : प्रथम ग्रीष्मकालीन अभिरूचि शिविर का समापन, इस दिन शुरू होगा दूसरा शिविर

लखनऊ। आंचलिक विज्ञान नगरी में चल रहे प्रथम ग्रीष्मकालीन अभिरूचि शिविर का शुक्रवार को समापन हो गया। जिसमें लखनऊ के विभिन्न विद्यालयों से लगभग 50 विद्यार्थियों ने भाग लिया और अपनी रचनात्मकता के द्वारा विभिन्न मॉडल बनाया। विद्यार्थियों के लिए इस शिविर में 6 विभिन्न विषय (क्रिएटिव किड्स आर्ट, साइंटिफिक टॉय मेकिंग, फन विथ इलेक्ट्रानिक्स, एस्ट्रो-लैब एवं रोबोटिक्स इत्यादि) थे। प्रतिभागियों ने दिलचस्प वैज्ञानिक प्रोजेक्ट एवं मॉडल बनाये। जिसमें सन –अर्थ- मून मॉडल, एंगल डेंगल मीटरआटोमेटिक सेफ्टी कार, एंड मैजिक लाइट हाउसइमेज मल्टीप्लायर, मैग्नेटिक लेविटेशन, बैलून कार, ट्रैफिक लाइट, पॉप रैबिट, मैग्नेटिक स्विंग इत्यादि शामिल थे। विद्यार्थियों एवं उनके अभिभावकों का कहना है कि विज्ञान नगरी में आयोजित होने वाले उक्त अभिरूचि शिविर छात्र- छात्राओं को अपनी रचनात्मक क्षमता दिखाने के लिए एक बहुत ही सफल माध्यम है, साथ ही यह उनके स्कूली पाठ्यक्रम के लिए भी काफी सहायक है। 


परियोजना समायोजक एम. अंसारी ने कहाकि अभिरूचि शिविर का मुख्य उद्देश्य बच्चों को एक ऐसा अवसर देना है जिसमें उनकी प्रतिभाएं निखर पायें और वे नये तरीकों से विज्ञान के प्रोजेक्ट बना पायें। इससे उन्हें वैज्ञानिक सिद्धान्तों को समझने में मदद मिलेगी और घर पर भी मॉडल बना पायेंगे। शिविर के प्रथम दिन ही सभी प्रतिभागियों में बहुत ही उत्साह व कुछ सीखने की ललक दिखाई दी। शिविर के अगले दिनों में अन्य दूसरे अद्वितीय व्याख्यान प्रतिभागियों हेतु आयोजित किये जायेंगे। इस तरह के अभिरूचि शिविरों का आयोजन बच्चों में न सिर्फ विज्ञान व तकनीकी की अच्छी समझ पैदा करने में सहायता करेगा। साथ ही साथ यह गर्मियों की छुट्टियों का सदुपयोग कराते हुए बच्चों द्वारा अपने घर में भी अपनी सृजनात्मकता के आधार पर विज्ञान के विभिन्न मॉडलों को बनाने के लिए प्रेरित करेगा।

आंचलिक विज्ञान नगरी में अब दूसरा शिविर 29 मई से 2 जून 2023 जून तक और तीसरा शिविर 05 से 09 जून 2023 तक आयोजित होगा, उसमें कुछ सीटें शेष हैं। उपरोक्त शिविर में भाग लेने के इच्छुक छात्र-छात्रायें आंचलिक विज्ञान नगरी, अलीगंज में अथवा फोन नं. 2327833 एवं 2321804, 9450640978, 7651976707, 9450140533, 991149913 पर सम्पर्क कर सकते हैं। पंजीकरण पहले औ पहले पाओ के आधार पर किया जायेगा।

Post a Comment

0 Comments