Pages

TATA SALT : बच्चों के लिए शुरू किया #HarSawaalUthega अभियान

एजेंसी। 'देश की सेहत, देश का नमक' की थीम पर प्रमुखता से जोर देते हुए, भारत के ब्रांडेड आयोडीन युक्त नमक सेगमेंट में अग्रणी और मार्केट लीडर, टाटा साल्ट ने एक राष्ट्रव्यापी गणतंत्र दिवस अभियान शुरू किया है। इस अभियान को देश के लिए #HarSawaalUthega नाम दिया गया है। 360-डिग्री दृष्टिकोण वाले, इस अभियान का उद्देश्य बच्चों को सवाल उठाने के लिए एक ऐसा मंच प्रदान करके उन्हें सशक्त बनाना है जिससे प्रासंगिक बातचीत को बढ़ावा दिया जा सके और सामाजिक परिवर्तन को बल मिल सके।

अभियान के शुभारंभ पर टिप्पणी करते हुए, टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स की प्रेसिडेंट, पैकेज्ड फूड्स-इंडिया, दीपिका भान ने कहा, “बच्चे वास्तव में हमारी सोच को नया रूप दे सकते हैं। वे उस यथास्थिति पर सवाल करते हैं जिसे हम स्वीकार कर लेना चाह रहे हैं और वही चुनौती बदलाव के लिए प्रेरित करती है। देश के लिए #HarSawalUthega एक ऐसा मंच है जो इन वास्तविक सवालों को सामने लाने का प्रयास करता है। हमें इस तरह के अंतर्दृष्टिपूर्ण, उद्दीपक प्रश्न पहले ही प्राप्त हो चुके हैं और भावी पीढ़ी द्वारा कल्पित बदलाव एवं उनकी जागरूकता से उत्साहित हैं। टाटा साल्ट भारत के सबसे भरोसेमंद ब्रांडों में से एक है, और हम निश्चित रूप से बच्चों की एक पूरी पीढ़ी को अपने सवाल उठाने और बेहतर कल के लिए योगदान देने की इस यात्रा में भागीदार बनाना चाहते हैं।"
इस अभियान की शुरुआत एक सर्वेक्षण से हुई, जिसमें देश भर की 1,000 से अधिक माताओं ने भाग लिया था। उन्होंने बच्चों द्वारा उठाए जाने वाले प्रासंगिक सवालों पर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता पर आम सहमति व्यक्त की। उनका मानना था कि ये बच्चे हमारे समाज या राष्ट्र की चिंतन की धारा एवं कार्य में बदलाव लाने में सक्षम हैं, इसलिए उनकी बातें सुनी जानी चाहिए। सर्वेक्षण में माताओं से उनके बच्चों की जिज्ञासा गुणांक (सीकू) के बारे में सवाल किए जाने पर की कुछ अकाट्य प्रतिक्रियाएँ सामने आईं। उनमें से लगभग 99% का मानना था कि उनके बच्चे जिज्ञासु हैं और अपने आसपास की दुनिया के बारे में बहुत कुछ जानना चाहते हैं। हालाँकि, 26% माताओं ने महसूस किया कि उनके बच्चों को खुद को अभिव्यक्त करने के अवसरों की कमी है। उनका मानना है कि बच्चों की जिज्ञासा की भावना को पोषण प्रदान किए जाने की आवश्यकता है, क्योंकि दुनिया के प्रति उनके नजरिये में एक बेहतर कल को आकार देने की शक्ति है।
अभियान की शुरुआत एक फिल्म के साथ की गई जिसमें छात्रों को सफेद झंडे फहराते हुए दिखाया गया। जिस पर उनके सवाल लिखे हुए थे जो अन्य बच्चों को अभियान में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित कर रहे थे। पारंपरिक, प्रिंट और डिजिटल सहित सभी माध्यमों में 360° दृष्टिकोण के साथ चलाए गए इस अभियान का गणतंत्र दिवस पर प्रभावशाली तरीके से डिजिटल समापन होगा, जिसमें देश भर के बच्चों द्वारा पूछे गए प्रश्न शामिल होंगे।

इस विचार के बारे में बताते हुए, ओगिल्वी इंडिया के चीफ क्रिएटिव ऑफिसर सुकेश नायक ने कहा, “यह एक बहुत ही शक्तिशाली मंच है जो हमारे देश के भविष्य अर्थात बच्चों को प्रासंगिक प्रश्न पूछने के लिए सशक्त बनाता है जो वास्तव में हमारे देश के भविष्य को परिभाषित करेगा। यह एक ऐसा विचार है जो न केवल बच्चों से संवाद करता है बल्कि प्रमुख राष्ट्रीय समाचार पत्रों के पहले पन्ने पर उनके सवालों को उछालकर उन्हें आवाज देता है, ताकि पूरा देश इसे देख सके। हमारा मानना है कि यह विचार पूरे भारत के बच्चों को अपने प्रश्नों को आवाज देने में मदद करेगा, उनके प्रश्नों को लहराएगा और बेहतर कल को आकार देने में मदद करेगा।" गणतंत्र दिवस विशेष संस्करण पैक भी बाजार में जारी किए गए हैं, जिसका उद्देश्य अभियान के उत्सव के लिए प्रतिष्ठित टाटा नमक पैकेटों को एक कैनवास में बदलना है। ये 1 किलो के पैक सभी आउटलेट्स और ई-कॉमर्स चैनलों पर उपलब्ध होंगे।

Post a Comment

0 Comments